Dorothy Hodgkin

Dorothy Hodgkin biography in hindi

डोरोथी हॉडकिन की जीवनी

परिचय (Introduction)

डोरोथी मैरी क्रॉफूट होजकिन नोबल पुरस्कार विजेता सुप्रसिद्ध वैज्ञानिक थी । डोरोथी ने एक्स रे क्रिस्टलोग्राफी  x ray crystallography तकनीकी को अत्याधुनिक बनाने का कार्य किया जिससे जैविक अणु  के संरचना के अध्ययन में अभूतपूर्व सफलता प्राप्त की इस खोज ने संरचनात्मक जीव विज्ञान के क्षेत्र में एक अद्भुत क्रांति लाने का कार्य किया। विटामिन बी 12(vit b12) की संरचना के शोध कार्य के लिए 1964 में डोरोथी होड़किन को रसायन का नोबल पुरस्कार प्रदान किया गया। वो दुनिया की तीसरी महिला थी जिन्हे रसायन का नोबल पुरस्कार प्रदान किया गया था। वो एक कुशल शोधकर्ता वैज्ञानिक थी।

जीवन

प्रारंभिक जीवन (Early Life)

  • डोरोथी मैरी क्रॉफूट का जन्म काहिरा मिस्र में हुआ था, वो जॉन विंटर क्रोफूट के चार संतानों में सबसे बड़ी थी।
  • डोरोथी की माता ग्रेस मैरी जो मोली के नाम से पारिवारिक सदस्यों में लोकप्रिय थी | 1914 में डोरोथी के माता पिता और उनके भाई जॉन और बहन एलिजाबेथ को उनके नाना नानी के यहां छोड़ कर चले गए। होड़किन के माता पिता  सूडान चले गए जहा जान विंटर क्रोफूट ने 1926 तक शिक्षा और पुरात्व विभाग में कार्य किया। डोरोथी की माता के चार भाई प्रथम विश्व युद्ध में मारे गए इस घटना ने ग्रेस मैरी को काफी प्रभावित किया जिससे ग्रेस मैरी लीग ऑफ नेशन की उत्साही समर्थक बन गई।
  • डोरोथी को 1921 में उनके पिता ने Sir John Leman Grammar School जो बैकल्स (Beccles, England ) इंग्लैंड  में था उसमें दाखिला करवाया।
  • डोरोथी उन दो लड़कियों में से एक थी जिन्हे रसायन पढ़ने की इजाजत थी।
  • डोरोथी होड़किन को काफी युवा अवस्था में ही रसायन के प्रति उत्साह और उमंग बढ़ता गया, डोरोथी की माता ग्रेस जो एक वनस्पति वैज्ञानिक थी ने डोरोथी को विज्ञान और शोध के क्षेत्र में प्रमुखता से सहयोग दिया।
  • डोरोथी के 16 वे जन्मदिन पर उनकी मां ने एक्स रे क्रिस्टलोग्राफी से संबंधित पुस्तक प्रदान की जिसने डोरोथी को काफी प्रभावित किया और उनके जीवन में एक मार्गदर्शक की भूमिका निभाई।
  • डोरोथी सूडान के रसायनज्ञ A.F Joseph के द्वारा भी प्रोत्साहित की गई जिससे उनके रसायन विज्ञान के प्रति अध्ययन में सहयोग मिला और वो सकारात्मक परिणाम ला सकी।

जीवन संघर्ष (Life struggle)

  • डोरोथी एक प्रबुद्ध महिला वैज्ञानिक थी उनके रसायन विज्ञान के क्षेत्र में किय गए कार्य काफी सराहनीय और सार्थक सिद्ध हुए है।
  • डोरोथी ने कई सारे शोधों कार्य किए परंतु उनके द्वारा पेंसिलिन और इंसुलिन की संरचना ने अदभुत भूमिका अदा की।
  • Vit b12 जैविक अणु की संरचना के खोज और उसके विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराने के कारण ही उन्हे रसायन का नोबल पुरस्कार प्रदान किया गया।
  • डोरोथी क्रोफूट होड़किन ने थॉमस लियोनेल होड़किन से शादी की, अपनी शादी के लगभग 12 वर्षो तक डोरोथी क्रोफूट , अपने नाम के साथ होड़किन   नहीं लिखती थी।
  • डोरोथी hodgkin के प्रोफेसर जॉन डेसमंड बर्नल ने उन्हे काफी प्रभावित किया।
  • डोरोथी ने Somerville college Oxford से b.a और कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से पीएचडी की डिग्री हासिल की, इंसुलिन की संरचना के शोध और विकास में काफी प्रभावशाली ढंग से कार्य किया।
  • Dorothy Hodgkin के तीन बच्चे थे,luke, Elizabeth और toby। डोरोथी ने संरचनात्मक जीव विज्ञान के क्षेत्र में अभूतपूर्व सफलता प्राप्त की उन्होंने अनेक तथ्यों और जानकारियों को दुनिया के सामने रखा जिससे विज्ञान के क्षेत्र मुख्यतः चिकित्सा विज्ञान में अभूतपूर्व परिवर्तन लाने का कार्य किया।

योगदान उपलब्धियां (Contribution and Achievements)

डोरोथी होजकिन के कार्यों के लिए संपूर्ण विश्व उनका ऋणी है, डोरोथी ने संरचनात्मक विज्ञान के क्षेत्र में विशेष योगदान दिया है।

डोरोथी ने निम्न जैविक अणु के संरचना में अपना बहुमूल्य योगदान दिया है-

  • इंसुलिन अणु की संरचना का पता लगाया
  • Vit b12 जैविक अणु की संरचना
  • पेंसिलिन की संरचना में भी अपना बहुमूल्य योगदान दिया
  • X Ray crystallography तकनीकी ने विज्ञान के क्षेत्र में अभूत पूर्व क्रांति लाने का कार्य किया

डोरोथी को उनके वैज्ञानिक शोधों और अध्ययनों के लिए अनेक पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है-

  • रॉयल मेडल 1956
  • नोबल पुरस्कार 1964
  • ऑर्डर ऑफ मेरिट 1965
  • कोपले मेडल 1976
  • डाल्टन मेडल 1981
  • लोमोनोसोव गोल्ड मेडल 1982

निष्कर्ष (Conclusion)

डोरोथी होड़किन ने अपने जीवन में काफी प्रभावशाली ढंग से कार्य किया वो जीवन पर्यंत एक कुशल शोधकर्ता वैज्ञानिक रही। उनका विज्ञान के क्षेत्र में विशेष योगदान है उनके द्वारा किए गए कार्य और शोध कार्य के लिए संपूर्ण विश्व उनका ऋणी रहेगा। उन्होंने विशेष कर रसायन विज्ञान में अभूतपूर्व सफलता प्राप्त की डोरोथी के प्रयासों के कारण ही जैविक अणु के संरचना और बनावट का पता आसानी से चल सकता है। वो अपने समय की प्रमुख महिला वैज्ञानिक रही।

धन्यवाद

हमारे द्वारा दिया गया  विवरण आप को कैसा लगा हमे अवश्य अवगत कराए आपके द्वारा दिया गया सुझाव हमारे लिए बहुमूल्य और सहृदय स्वीकार्य है।

हमारा उद्देश्य आपका अधिकतम सहयोग है।

1,462 thoughts on “Dorothy Hodgkin

  1. Nice read, I just passed this onto a friend who was doing some research on that. And he just bought me lunch as I found it for him smile So let me rephrase that: Thanks for lunch! “Life is a continual upgrade.” by J. Mark Wallace.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *