Georges Cuvier

Georges Cuvier biography in hindi

जॉर्जेस कुविएर की जीवनी

परिचय (introduction)

  • जॉर्ज क्यूवियर एक प्रकृतिवादी, जीव वैज्ञानिक थे, इन्हे कभी कभी जीवश्म विज्ञान का  संस्थापक भी कहा जाता है।
  • 19 वी सदी में जॉर्ज अपने कार्यों और कुशल नेतृत्व क्षमता के कारण अपने समकालीन वैज्ञानिक समुदाय में सर्वश्रेष्ठ माने जाते थे।
  • क्यूवियर के अथक प्रयासों और शोध ने कशेरुकी जीवाश्म विज्ञान की नीव रखी क्यूवियर ने ही linnaean टैक्सोनॉमी को और अधिक विस्तृत किया।
  • क्यूवियर ने अपने लेख थ्योरी ऑफ अर्थ 1813 मे catastrophism के समर्थन में बात की है।

जीवन

प्रारंभिक जीवन (Early Life)

  • जेन लियोपोल्ड निकोलस फ्रेडरिक क्यूवियर जिन्हे जॉर्ज क्यूवियर के नाम से जाना जाता है, का जन्म montbeliard पर हुए था।
  • जॉर्ज की माता एने क्लीमेंस चाटेल और पिता जेन जॉर्ज क्यूवियर स्विस आर्मी में लेफ्टिनेंट lieutenant थे।
  • जॉर्ज की माता उनके पिता से उम्र में काफी छोटी थी लेकिन दोनो में तालमेल सही था, जॉर्ज की माता जॉर्ज के शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया करती थी।
  • जिससे जॉर्ज बचपन से ही उच्च बुद्धि कौशल से परिपूर्ण थे उनका क्लास में हमेसा प्रथम स्थान प्राप्त होता था।
  • शुरुवाती दिनो में जॉर्ज को लैटिन और ग्रीक भाषा में थोड़ी परेशानी होती थी।
  • 10 वर्ष की आयु में पहली बार क्यूवियर नेचुरल साइंस से परिचित हुआ, पहली ही मुलाकात में वे प्रकृतवादी सोच से प्रभावित होने लगे उसके बाद ये सिलसिला चलता रहा।
  • Historiae animalium नामक पुस्तक से वे काफी प्रभावित हुए,।
  • जॉर्जकैरोलिन एकेडमी जो की स्टुटगार्ट में थी में पढ़ते थे, जहा वो अपने सभी विषयों में श्रेष्ठ प्रदर्शन करते जबकि उन्हे जर्मन नहीं आती थी शुरू के दिनो मे लेकिन कुछ ही समय में वो इसी भाषा में स्कूल का सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार प्राप्त किए।
  • ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद जॉर्ज ने एक ट्यूटर के रूप में कार्य करना शुरू किया। जहां से उनके जीवन यापन के लिए धन का प्रबंध होना शुरू हुआ।

जीवन संघर्ष (Life struggle)

  • जॉर्ज की विशेष रुचि प्राणी विज्ञान में थी, वे विभिन्न जीवो के जीवाश्मो का अध्ययन करते उनका निरीक्षण करते तथा उनसे प्राप्त सूचनाओ को एकत्र करते।
  • 1790 में जॉर्ज वाल्मोंट शहर में होने वाले सभी शोध कार्यों और गोष्ठियों में भाग लिया करते थे।
  • यही पर जॉर्ज क्यूवियर की मुलाकात हेनरी अलेक्जेंडर टेसियर से हुई कुछ समय बाद दोनो काफी प्रभावित हुए एक दूसरे से और समक्ष बन गए।
  • जॉर्ज क्यूवियर को पेरिस में संबोधित करते हुए हेनरी ने कहा था कि……
  • “I have just found a peral in the dunghill of Normandy”
  • हेनरी के प्रयासों के कारण ही जॉर्ज को पेरिस में प्रकृति विज्ञान के शोधों के लिए आमंत्रित किया गया।
  • 1795 में 26 साल की अवस्था में जॉर्ज को jean Claude mertrud का असिस्टेंटबना दिया गया।
  • 1802 में mertrud के मरने के बाद जॉर्ज उनके पद पर नियुक्त हुए।
  • 1806 में जॉर्ज रॉयल सोसाइटी के मेंबर और1812 में रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंस के मेंबर बने,18270में ही ये रॉयल institute ऑफ द नीदरलैंड के मेंबर बने।1822 में क्यूवियर अमेरिकन एकेडमी ऑफ आर्ट्स एंड साइंस के फॉरेन मेंबर बने।

योगदान उपलब्धियां (Contribution and Achievements)

  • जॉर्ज क्यूवियर ने जीवाश्म वैज्ञानिक के तौर पर अनगिनत प्रमुख खोजें की और तुलनात्मक शरीर रचना विज्ञान की अवधारणा प्रस्तुत की ।
  • जॉर्ज ने स्तरीकरण का सिद्धांत भी दिया, जॉर्ज ने प्रकृति विज्ञान के क्षेत्र में प्रमुखता से कार्य किया।
  • जॉर्ज क्यूवियर ने principle of faunal succession के सिद्धांत को दुनिया को दिया। जॉर्ज ने लामार्क के थ्योरी ऑफ इवोल्यूशन का विरोध किया और catastrophism को लोगों के बीच प्रसिद्धि दिलाई।
  • जॉर्ज क्यूवियर ने ही कशेरुकी जीवाश्म विज्ञान की नीव रखी और तत्कालीन समय के जीवो और उनके जीवाश्मों के बीच विभिन्न परिवर्तनों और संबंधों का गहनता से अध्यन किया।
  • क्यूवियर ने पेरिस में हाथी के जीवाश्मो का अध्यन किया उसने पाया कि इस हाथी की हड्डी अफ्रीका और इंडिया में पाए जाने वाले हाथियों से बिल्कुल विन्न है,।
  • जीवश्म के अध्ययन ने विभिन्न जीवो के होने के साक्ष्य प्रस्तुत किय।

निष्कर्ष conclusion

जॉर्ज क्यूवियर के कार्यों के लिए संपूर्ण मानव समाज उनका ऋणी है उनके द्वारा किए गए शोध कार्यों ने विभिन्न जीवो के होने के साक्ष्य प्रस्तुत किए।

प्रकृति विज्ञान में उनकी रुचि ने कई सारी अवधारणाओं को प्रस्तुत किया, उनकी विलक्षण प्रतिभा ने उन्हे एक विख्यात वैज्ञानिक की श्रेणी में रखा जाता है। वे बचपन से ही जिज्ञासा और उत्सुकता से परिपूर्ण थे, उनके अदम्य इच्छा शक्ति से ही उन्हे पूरी दुनिया में सम्मान मिला। उनके अथक परिश्रम और दृढ़ संकल्प ने विश्व को अनेक तथ्यों और जानकारियों से अवगत कराया। जिससे संपूर्ण विश्व का कल्याण हुआ। वैज्ञानिकों जगत में एक अद्भुत क्रांति का समावेश हुआ।

धन्यवाद 

हमारे द्वारा दिया गया विवरण आप को कैसा लगा हमे अवश्य अवगत कराया आपके द्वारा दिया गया सुझाव हमारे लिए बहुमूल्य और सहृदय स्वीकार्य है।

हमारा उद्देश्य “आपका अधिकतम सहयोग है।”

2,353 thoughts on “Georges Cuvier

  1. I infatuation to start a website what needs to be keen in regards to content and endowment to control auctions and connect to payments functionalities. Can anyone advised of a normal application / ISP/Hosting/ practical guides to permit me to below acknowledge this progress.. . Regards. . Khalidnz.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *